Home Ambala News ब्रह्मसरोवर गीता जयंती पर लगा संस्कृति मेला, नोटबंदी भी बेअसर

ब्रह्मसरोवर गीता जयंती पर लगा संस्कृति मेला, नोटबंदी भी बेअसर

0
SHARE
Brahma Sarovar, Kurukshetra Culture fair Notbandi ineffective

शिव कुमार/ लेटेस्ट न्यूज़ हरियाणा, (कुरुक्षेत्र) कुरुक्षेत्र गीता जयंती उत्सव के शुरू होते ही ब्रह्मसरोवर के पर भारतीय संस्कृति का मेला नजर आने लगा है। नोटबंदी के कैश को टोटा बरकरार है, लेकिन प्रदेश के लोग गीता जयंती महोत्सव की ओर खींचे आ रहे हैं। इस महोत्सव में जहां शिल्पकार अपनी शिल्पकला से पर्यटकों को मोहित कर रहे है, वहीं विभिन्न प्रदेशों के लोक कलाकार पर्यटकों का खूब मनोरंजन कर रहे हैं।

शिल्प और सरस मेले में दूर-दराज से आने वाले पर्यटकों का झारखंड, हिमाचल, उत्तराखंड और जम्मू कश्मीर के लोक कलाकार मनोरंजन कर रहे हैं। उत्तरी तट पर जहां राजस्थानी लोक कलाकार कच्ची घोड़ी नृत्य की प्रस्तुती देकर पर्यटकों को नृत्य करने के लिए उत्साहित कर रहे थे, उत्तर पश्चिमी तट पर बीन-बांसुली की धुन पर लोक कलाकार भी पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित कर रहे थे।

इस पावन तट के चारों तरफ किसी न किसी प्रदेश के कलाकार, बाजीगर, बहुरुपिये भी पर्यटकों को लुभा रहे थे। शुक्रवार को इस शिल्प मेले की रौनक को बढ़ाने का काम विभिन्न स्कूलों से आए हजारों विद्यार्थियों ने किया। उपायुक्त सुमेधा कटारिया ने महोत्सव के शिल्प और सरस मेले का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं को जांचा और 6 दिसंबर के कार्यक्रमों की तैयारियों का जायजा भी लिया। उन्होंने कहा कि सेल्फी प्वाइंट भी पर्यटकों को आकर्षित कर रहे हैं।

ब्रह्मसरोवर का तट विभिन्न राज्यों की संस्कृति को अपने आगोश में समेट रहा है। इस तट पर विभिन्न राज्यों की संस्कृति पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। पहली बार इस तट पर भारत के विभिन्न राज्यों की संस्कृति को एक साथ देखने का मौका मिल रहा है।

शिल्प मेले के दूसरे दिन चारों तरफ शिल्पकला की छोटी-छोटी दुकानों पर पर्यटक खरीददारी कर रहे हैं। यह दुकानें भारतीय शिल्पकला के सौंदर्य को भी चरितार्थ कर रही है। राजस्थान की कठपुतलियां, बनारस की साड़ियां, असम की बांस से बनी टोकरियां भी आकर्षण का केंद्र बनी हुई हैं। कुरुक्षेत्र निवासी अमनदीप कौर और मोना का कहना है कि दीपावली से ज्यादा इस महोत्सव का इंतजार रहता है।

भजन संध्या का शुभारंभ आज
उपायुक्त ने कहा कि 3 दिसंबर को श्रीकृष्ण संग्रहालय में ही सायं 5 बजे भजन संध्या कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। इसका शुभारंभ राज्यमंत्री कृष्ण बेदी करेंगे। 4 दिसंबर को सुर संध्या कार्यक्रम की शुरुआत सीपीएस सीमा त्रिखा करेंगी। 5 दिसंबर को सायं करीब 5 बजे यूनिवर्सिटी द्वितीय गेट पर स्थित राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल में गीतामय समस्त भारत कार्यक्रम का आयोजन होगा। इस कार्यक्रम में देश के 574 जिलों से पहुंचे प्रतिनिधि शामिल होंगे।

हरियाणवी गीत की सीडी का विमोचन
मुख्यमंत्री ने पुरुषोत्तमपुरा बाग में प्रदेश के प्रसिद्ध लोक कलाकार दिलावर कौशिक के हरियाणवी गीता उपदेश गीत की सीडी को रिलीज किया। इस गीत को परमांनद कौशिक ने लिखा और अमित शर्मा ने निर्देशित किया। इस छह मिनट के गीत में पवित्र ग्रंथ गीता के उपदेशों को शामिल किया गया है।

LEAVE A REPLY